2

बाबू मोहन सिंह जिला चिकित्सालय टी.बी.क्लिनिक के कर्मचारी देवेन्द्र प्रताप सिंह ने अपना खून देकर मानवता को शर्मसार होने से बचाया

जिला संवाददाता बिरेन्द्र कुमार श्रीवास्तव

बाबू मोहन सिंह जिला चिकित्सालय देवरिया में आज टी.बी. क्लीनिक के एक कर्मचारी देवेंद्र प्रताप सिंह जो कि जिला प्रोग्रामिंग कोऑर्डिनेटर के पोस्ट पर कार्यरत हैं जो आज एक निहायत ही गरीब और दोनों आंख से अंधे व्यक्ति को उस समय बचाया जब वह ऑपरेशन थिएटर में खून की कमी के वजह से जीवन और मृत्यु से संघर्ष कर रहा था परंतु दुर्भाग्य यह था कि जिला चिकित्सालय के ब्लड बैंक में उस ग्रुप का ब्लड उस समय उपलब्ध नहीं था ब्लड बैंक के कर्मचारियों का कहना था कि आप किसी से भी ब्लड डोनेट करा दें और मैं क्रास मैचिंग करा कर के उस ब्लड को निकाल कर के दे दूंगा, उस समय उसके परिजन काफी परेशान थे उसी समय देवेंद्र प्रताप सिंह अपने ऑफिस से बाहर निकले घर जाने के लिए उन्होंने देखा तो उत्सुकता बस वह जानने के लिए आ गए कि आखिर बात क्या है लोगों ने जब इस बारे में उनको जानकारी दी तो उन्होंने कहा कि  आप हमारा ग्रुप चेक कराइए और उनका ब्लड ग्रुप मैच कर गया और वह अपना खून दे कर के उस गरीब के जान को बचा कर के मानवता को शर्मसार होने से बचाया कहा जाता है कि भारत विभिन्नताओं का देश है जिसका आज जीता जागता सबूत देखने को मिला जहां आदमी एक दूसरे के खून का प्यासा है वही आज भी समाज में ऐसे लोग हैं जो अपना खून देकर दूसरे की जीवन को बचाने के लिए अपने आप को प्रेषित करते रहते हैं इसीलिए अभी भी मानवता जीवित है

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

7


8

6