2

यातायात नियमों का पालन करें और सुरक्षित रहें:डीएम

के एम बी ब्यूरो सुधीर राय




*जिलाधिकारी ने सड़क सुरक्षा पर बाइक रैली को किया रवाना*


*हेलमेट और सीटबेल्ट का करें प्रयोग, ओवर स्पीडिंग और स्टंट से करें परहेज*


*देवरिया,(सू0वि0), 27 मई*


जिलाधिकारी जितेंद्र प्रताप सिंह ने आज कलेक्ट्रेट परिसर में सड़क सुरक्षा माह के अंतर्गत बाइक रैली हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने कहा कि सभी नागरिक सड़क सुरक्षा नियमों का पालन करें। जिम्मेदार बने और सुरक्षित रहे।


जिलाधिकारी ने कहा कि जनपद में प्रतिवर्ष सैकड़ों व्यक्तियों की असामयिक मृत्यु सड़क दुर्घटना में हो जाती है। थोड़ी सी सावधानी बरत कर हम लोगों की जिंदगी को बचा सकते हैं। उन्होंने कहा कि समस्त दो पहिया वाहन चालक एवं सवारी बीआईएस मार्क हेलमेट अवश्य पहने। चार पहिया वाहन चालक और सवारी सीट बेल्ट का प्रयोग करे। शराब पीकर वाहन न चलाएं। सड़क पर स्टंट बिल्कुल न करे। वाहन चलाते समय गति सीमा का ध्यान रखें और ओवरस्पीडिंग बिल्कुल न करे। वाहन चलाते समय मोबाइल पर बात न करें इससे अनावश्यक ध्यान भटकता है और दुर्घटना होने की संभावना बन जाती है।


डीएम ने पैदल यात्रियों अनुरोध किया कि सड़क पर हमेशा बायीं ओर चलें। स्टॉप लाइन पर रुके और जेब्रा क्रॉसिंग से ही सड़क पार करें। स्कूली बच्चे निर्धारित बस स्टॉप से ही चढ़े व उतरने के बाद दोनों तरफ देखकर सावधानी से आगे बढ़ेगा इससे दुर्घटना को रोका जा सकता है। जिलाधिकारी ने कहा कि जिंदगी व्यक्ति और उसके परिजनों के लिए अनमोल है, यातायात नियमों का पालन करके इसे सुरक्षित रखा जा सकता है।


*बॉक्स संख्या एक*


*सड़क दुर्घटना में घायलों की मदद के लिए डायल करें 1033 या 112 या 1800-1800-151*

      जिलाधिकारी जितेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि सड़क दुर्घटना में घायल व्यक्तियों की तत्काल मदद करनी चाहिए। राजमार्ग पर सड़क दुर्घटना में घायल व्यक्ति की सहायता के लिए नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया का हेल्पलाइन नंबर 1033 या 112 नंबर डायल कर मदद पहुंचाई जा सकती है। जिलाधिकारी ने बताया कि 1033 नंबर डायल करते ही हाइवे पर एंबुलेंस, क्रेन और वेहिकल तीनों पहुंचते हैं और आवश्यकतानुसार घायल का सहयोग करते हैं। 1033 नंबर की मॉनिटरिंग एनएचएआई के उच्चस्तरीय अधिकारियों द्वारा की जाती है। इसके अतिरिक्त 1800-1800-151 डायल करके भी सड़क सुरक्षा में घायल व्यक्ति को सहायता पहुंचायी जा सकती है।


*बॉक्स संख्या दो* 


*गुड सेमेरिटनों को करें प्रोत्साहित: डीएम*

जिलाधिकारी जितेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि दुर्घटना में घायल को अस्पताल पहुंचाने वाले नेक व्यक्ति(गुड समेरिटन) को सड़क सुरक्षा कोष से ₹5000 प्रोत्साहन राशि देने का प्रावधान है। यह राशि सड़क सुरक्षा कोष से आवंटित की जाती है। गुड सेमेरिटनों को सरकार एवं विभिन्न संस्थाओं द्वारा समय-समय पर सम्मानित भी किया जाता है। डीएम ने नागरिकों से सड़क दुर्घटना में घायल व्यक्तियों को अस्पताल पहुंचाने की अपील की, जिससे उनकी जान बचाई जा सके।





  

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

7

8

6