2

केले नही मिलने से हाथी को आया गुस्सा, सूंड से पटककर महावत की ले ली जान

केले नही मिलने से हाथी को आया गुस्सा, सूंड से पटककर महावत की ले ली जान

केएमबी नीरज डेहरिया 

बंडोल, सिवनी। इन दिनों शहर सहित नगर के आस पास के गांव में एक हाथी को अपने साथ लेकर लगभग 15 लोग घूमकर अपनी रोजी-रोटी कमा रहे हैं। मंगलवार को दोपहर लगभग 2 बजे उनके पास से निकल रही एक गाड़ी चालक ने जैसे ही हाथी को केला खिलाना चाहा उसी बीच हाथी के आसपास रहने वाले उनके महावत संरक्षक ने केला को ले लिया जिसके चलते हाथी को इतना जोर के गुस्सा आया कि उन्होंने अपने संरक्षक महावत को सूंड से लपेट कर जमीन में पटका और उसके ऊपर पैर रख दिया। इस घटना की सूचना जैसे ही बंडोल थाना प्रभारी दिलीप पंचेश्वर को लगी उन्होंने तत्काल गंभीर रूप से जख्मी 56 वर्षीय भरत वासुदेव पिता राजाराम वासुदेव निवासी दमोह को तत्काल जिला अस्पताल भिजवाया गया, जहां बीच रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम हेतु भेज दिया गया। बुधवार को पोस्टमार्टम कर परिजनों को सौंप दिया गया। बंडोल थाना प्रभारी दिलीप पंचेश्वर ने जानकारी देते हुए बताया कि सिवनी से बंडोल हाथी को अपने साथ में लेकर हाथी के दल में शामिल लगभग 13 लोग बंडोल पहुंचे। वही बंडोल पहुंचने से पहले राहीवाड़ा के समीप रेस्टोरेंट पहुंचे तभी हाथी के पास चार पांच लोग मौजूद थे। कुछ लोग आगे हाथ देकर राहगीरों से दक्षिणा मांग रहे थे। इसी दौरान बंडोल से सिवनी दिशा की ओर एक गाड़ी जा रही थी जिसमें केले भरे हुए थे। गाड़ी चालक ने दूर से ही हाथी को देखकर केला खिलाने की इच्छा से गाड़ी को वहां रोका। गाड़ी चालक हाथी को केला देने लगा। इसी बीच हाथी के पास नीचे खड़े व्यक्ति ने केला को अपने हाथ में ले लिया। हाथी को केला नहीं मिलने से हाथी क्रोधित हो उठा और एक झटके में ही भरत को सूंड में लपेट कर जमीन में पटक दिया। यह घटना होते ही वहां हड़कंप मच गया। पास के लोगों ने हाथी से दूर भरत को खींचकर ले गए तथा इसकी सूचना बंडोल थाना को जैसे लगी उन्होंने उपचार के लिए जख्मी व्यक्ति को जिला अस्पताल भिजवाया जहां बीच रास्ते में ही भरत ने दम तोड़ दिया। मृतक के पुत्र अनिल वासुदेव दमोह को बुलाकर मुकदमा कायम किया गया है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

7

8

6