2

प्रधानमंत्री ने सराहा उत्तर प्रदेश के कैदियों का हुनर, मंत्री ने भेंट की कैदियों की स्वनिर्मित वस्तुएं

प्रधानमंत्री ने सराहा उत्तर प्रदेश के कैदियों का हुनर, मंत्री ने भेंट की कैदियों की स्वनिर्मित वस्तुएं

केएमबी रुखसार अहमद

सुलतानपुर। देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से दिल्ली में उत्तर प्रदेश के कारागार एवं होमगार्ड राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार धर्मवीर प्रजापति ने शिष्टाचार भेंट की। भारत के इतिहास में आजादी के बाद ऐसा पहली बार हुआ है कि किसी प्रदेश के मंत्री ने विभागीय कार्यों को प्रस्तुत करते हुए प्रधानमंत्री से भेंट की है। भारत रत्न अटल विहारी बाजपेयी की जयंती के ठीक एक दिन बाद प्रधानमंत्री से मुलाक़ात कर मंत्री धर्मवीर प्रजापति ने अटल जी की कर्तव्यनिष्ठा और कार्य के प्रति ईमानदारी को अपना मूलमंत्र बताते हुए अपने विभाग की समीक्षात्मक प्रजेंटेशन एक बुकलेट के माध्यम से दिखाई और इस दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी को विभागीय उपलब्धियों पर तैयार की गई पुस्तक की एक प्रति के साथ बंदियों द्वारा मथुरा जिला कारागार में बने ठाकुरजी की पोशाक, जैन मुनियों के अंगवस्त्र, पटुका, शॉल, साड़ी अलीगढ़ जेल में बने लकड़ी के गदा व शिवलिंग, मेरठ जिला कारागार में बना फुटबाल एवं गाजियाबाद जेल के बंदियों द्वारा बनाए गई मोदी व गणेश जी की पेंटिंग, मोमबत्ती, दीए भेंट किए।मंत्री ने बुकलेट के माध्यम से रक्षाबंधन, करवाचौथ, दीवाली, भाईदूज जैसे त्योहारों को मनाये जाने के बारे में भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को अवगत कराया। प्रधानमंत्री ने किये गये कार्यों की सराहना करते हुए गंभीरता से सुना समझा और एक अभिभावक की तरह अपना स्नेह दिया। मंत्री ने बताया की कैसे उत्तर प्रदेश की जेलें अब असल मायनों में सुधारगृह बन गयी है और हर एक कैदी कारागार से एक अच्छा इंसान बन के निकल रहा है। धर्मवीर प्रजापति ने मुलाकात के दौरान कारागार विभाग को और अधिक सुदृण किये जाने के बारे में विस्तृत चर्चा कर प्रधानमंत्री का मार्गदर्शन प्राप्त किया। उन्होंने प्रधानमंत्री को अवगत कराया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कुशल मार्गदर्शन में निरंतर सुधार हो रहा है और हर एक मायने में उत्तरप्रदेश अब उत्तम प्रदेश बन रहा है। उन्होंने प्रधानमंत्री को अवगत कराया कि प्रदेश की जेलों में सुबह बंदी गायत्री मंत्र एवं महामृत्युंजय मंत्र पढ़ते हैं। इससे उनकी सोच में बड़े पैमाने पर बदलाव देखने को मिल रहा है। बंदियों को अपने किये पर पछतावा हो रहा है और वे सकारात्मक सोच से अपना काम कर रहे हैं एवं आपसी भाईचारा बनाए रखे हैं। बंदियों के खान-पान में सुधार किया गया है। उन्हें प्रतिदिन सुबह और शाम को मिलने वाले भोजन की गुणवत्ता में इतना सुधार हुआ है कि फतेहगढ़ जेल में भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण एफएसएसएआई ने 5 स्टार रेटिंग दी है। इसी तरह, होमगार्ड विभाग में मुख्यमंत्री द्वारा दिये गये निर्देशों का अनुपालन भी सुनिश्चित कराया जा रहा है। हाल ही में होमगार्ड विभाग ने धूमधाम से अपना हीरक जयंती समारोह मनाया।
  प्रदेश के एक लाख अटठारह हजार होमगार्डों को किसी तरह की समस्या होती है तो वे सीधे मुझसे या विभाग के शीर्ष अधिकारियों से मिल रहे हैं।मुख्यमंत्री ने गृह विभाग से संबद्ध 34 हजार होमगार्ड जवानों को अब उनके अपने विभाग से ही वेतन दिया जा रहा है। सरकार ने पहली बार होमगार्ड विभाग के लिए अलग से बजट की व्यवस्था की गई है। मंत्री ने अपनी भावनाएं व्यक्त की और कहा कि होमगॉर्ड्स स्वयंसेवक है और हर एक स्वयंसेवक का दर्जा सर्वाेच्च होना चाहिए, जिसको सुनिश्चित करने के लिए निरंतर पूरी श्रद्धा व निष्ठा से कार्य कर रहा हूँ।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

7


8


 

6