2

पति ने पत्नी के प्रेमी के गर्दन को फरसे से एक ही वार में काट डाली, इतना ही नही शव के किए 20 टुकड़े

पति ने पत्नी के प्रेमी के गर्दन को फरसे से एक ही वार में काट डाली, इतना ही नही शव के किए 20 टुकड़े

केएमबी बीपी शर्मा

गाजियाबाद। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद जिले में दिल दहला देने वाला सनसनीखेज खुलासा हुआ है। खोड़ा में 34 वर्षीय रिक्शा चालक मीलाल ने पत्नी पूनम के प्रेमी 24 वर्षीय अक्षय की फरसे से गला काटकर मौत के घाट उतार दिया और फिर शव के 20 टुकड़े कर दिए। इसके बाद टुकड़ों को तीन बोरियों में भरकर रिक्शा से ले जाकर घर से एक किलोमीटर दूर नहर किनारे झाड़ियों में फेंक आया। दो दिन बाद शनिवार शाम शव मिलने पर पुलिस ने शक होने पर मीलाल से पूछताछ की। पूछताछ में मीलाल ने जुर्म कुबूल करते हुए बताया कि उसने ही पूनम से कहकर अक्षय को बुलवाया था और घर में सोने के लिए कहा था। सोते हुए ही उसकी जान ली। हत्या से लेकर शव ठिकाने लगाने तक की साजिश पहले ही तैयार कर चुका था, उसे इसका पछतावा नहीं है। मृतक अक्षय राजस्थान के कोतपुतली का रहने वाला था। एक साल पहले तक खोड़ा में ही रहता था और रिक्शा चलाता था। अक्षय का मीलाल के घर आना-जाना था। इसी दौरान उसकी नजदीकी मीलाल की पत्नी पूनम से बढ़ गई।मीलाल मूल रूप से संभल का रहने वाला है।मीलाल काफी समय से खोड़ा के आदर्श नगर सोम बाजार में अमन बेंक्वेट हॉल वाली गली में किराए पर रहता है। मीलाल ने पुलिस पूछताछ में बताया कि कुछ दिन पहले उसकी सात साल की बेटी रेखा घर में ही झुलस गई थी। उसका दिल्ली के गुरु तेग बहादुर अस्पताल में इलाज चल रहा है। पूनम को रोज बच्ची के पास जाना पड़ता था जबकि वह खुद रिक्शा चलाने निकल जाता था। पूनम को चिंता हो रही थी कि घर में दो बेटियों और बेटे के पास कोई नहीं रहता है।मीलाल का कहना है कि उसकी चिंता को देख उसने साजिश रच ली। पत्नी से कहा कि वह कुछ दिनों के लिए राजस्थान से अक्षय को बुला ले। पत्नी उसकी बातों में आ गई और फोन करके अक्षय को बुला लिया। वह 19 जनवरी की सुबह पहुंच गया था। मीलाल ने पुलिस को बताया कि वह साजिश के तहत पूरी तैयारी कर चुका था। फरसा पहले ही घर में लाकर रख लिया था। इंतजार सिर्फ सही मौका मिलने का था। उसने पूनम से कहा कि वह बेटी के पास अस्पताल चली जाए। वह चली गई। घर पर दो बेटियां और अक्षय रह गए।वह रिक्शा चलाकर लौटा तो अक्षय घर पर ही मिला। इसके बाद अक्षय सोने चला गया। उसी कमरे में बच्चे सो रहे थे। मीलाल ने पुलिस को बताया कि वह जागता रहा। रात 11 बजे उसने देखा कि बेटियों को गहरी नींद आ गई है। अक्षय भी सोया हुआ है। वह फरसा लेकर पहुंचा और पूरी ताकत के साथ उसकी गर्दन पर वार किया।एक ही वार में गर्दन कटकर अलग हो गई। इसके बाद उसने शव के टुकड़े किए। 20 से ज्यादा प्रहार किए। मीलाल ने पुलिस को बताया कि कितने टुकड़े हुए, उसे ठीक से याद भी नहीं है,लेकिन बोरी में भरते हुए उसे लगा कि कम से कम 20 टुकड़े तो होंगे ही।हाथ, पैर, गर्दन अलग-अलग कर दिए थे। धड़ के भी कई टुकड़े किए। बच्चों को इसका पता नहीं चला। सुबह उठने पर बच्चों से कह दिया कि अंकल रात में ही घर वापस चले गए, उन्हें जरूरी काम पड़ गया था।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

7


8


 

6