2

पुंछ में बलिदान हुये देवरिया के लाल को राजघाट पर डीएम, एसएसपी व एसपी सिटी ने दी सलामी

पुंछ में बलिदान हुये देवरिया के लाल को राजघाट पर  डीएम, एसएसपी व एसपी सिटी ने दी सलामी

केएमबी दिलीप श्रीवास्तव

गोरखपुर। श्रीनगर के कुपवाड़ा के पुंछ के जलास सेक्टर में मोर्टार गिरने से बलिदान हुए देवरिया के लाल सेना के जवान ऋषिकेश चौबे का अंतिम संस्कार गुरुवार को गोरखपुर के राजघाट पर अंतिम संस्कार के दौरान जिलाधिकारी कृष्ण करुणेश वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ गौरव ग्रोवर पुलिस अधीक्षक नगर कृष्ण बिश्नोई राजघाट के राम घाट पर पहुंचकर पार्थिव शरीर को गार्ड ऑफ ऑनर राजकीय सम्मान के साथ दिया। उनके पैतृक गांव साेहनपुर से बड़ी तादाद में ग्रामीण गोरखपुर आवास देवरिया बाईपास पर पहुंचकर राजघाट के रामघाट तक पैदल जयघोष करते हुए पहुंचे बनकटा थाना क्षेत्र के सोहनपुर गांव के रहने वाले ऋषिकेश चौबे सेना में जवान थे। वह श्रीनगर के कुपवाड़ा में तैनात थे पुंछ में जलास सेक्टर में बुधवार की शाम करीब 4:45 बजे मोर्टार गिरने से वह बलिदान हो गए। सेना के अधिकारी ने बलिदान होने की जानकारी पिता राजेश चौबे को दी बलिदानी ऋषिकेश चौबे का पूरा परिवार गोरखपुर जनपद के राम अवध नगर फेज टू जंगल सिकरी खोराबार में रहता है। बलिदान होने की सूचना मिलने के बाद स्वजन में चीख पुकार मची है। बलिदानी की मां व पत्नी की तबीयत बिगड़ने पर उन्हें गोरखपुर के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। रिश्तेदार व गांव के लोग गोरखपुर पहुंचने लगे हैं। सभी पार्थिव शरीर आने की प्रतीक्षा कर रहे हैं।सूर्य अस्त होने के बाद अंतिम संस्कार नहीं हो पाएगा। इसलिए  पार्थिव शरीर को पैतृक गांव ले जाने का विचार त्याग दिया। गोरखपुर के राजघाट पर राप्ती नदी के तट पर अंतिम संस्कार किया जहां बड़ी संख्या में प्रशासनिक अधिकारी जिलाधिकारी गोरखपुर कृष्ण करुणेश  वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ गौरव ग्रोवर पुलिस अधीक्षक नगर कृष्ण बिश्नोई अपर एसडीएम शिवम सीओ कैन्ट श्यामदेव एवं नायब तहसीलदार विकास सहित अन्य अधिकारी व कर्मचारी पहुंचकर गार्ड ऑफ ऑनर में सम्मिलित होकर अपने दायित्वों का निर्वहन किया देश के लाल को अंतिम सलामी दी। अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए पैतृक गांव सोहनपुर से बड़ी संख्या में लोग पहुंचे हैं।बलिदानी ऋषिकेश चार साल पहले सेना में भर्ती हुए थे। उनके पिता राजेश चौबे भी सेना से तीन साल पहले सेवानिवृत्त हुए हैं और उनके तीन चाचा भी सेना में हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

7

8

6